Location, Hyderabad - 500092, INDIA
+91-8374318619
reach@timothygopagani.in

मेरी गवाही

मेरी गवाही

जब कोई यीशु में मेरे विश्वास के बारे में पूछता है, जिनके लिए मेरा दावा है कि उन्होंने मौलिक रूप से मेरा जीवन बदल दिया, मैं वापस मुस्कुराने और कहने में बिलकुल समय नहीं लगाता – ‘बिना यीशु के, तुम्हारे आसपास आज के दिन यह प्रश्न पूछने के लिए कोई टिमोथी नहीं था ………‼’ मेरे जीवन पर यीशु मसीह का इतना अधिक प्रभाव है| उसके मेरे जीवन में आने से पहले मेरा प्रत्येक दिन बहुत पीडादायक था लेकिन अब हर एक मिनट उल्लास में बदल गया है ……‼
यीशु मसीह से मेरा जुडाव १३ वर्षों पुराना है और समय के इस अवधि में, मैंने कभी अकेला महसूस नहीं किया, न ही उसके शक्तिशाली प्यार से वंचित रहा| यीशु के इस प्यार ने मुझे कई मुश्किलों, कई मील के पत्थरों को पार करने में शक्तिशाली बना दिया है और मेरे साथ-साथ दूसरों के जीवन में एक के बाद एक आशीर्वाद का दावा किया है| हाँ! यह यीशु महीह हैं जिन्होंने इस विजई जीवन के पूरे रास्ते में मेरा नेतृत्व किया है और यह वही थे, जो इन सभी वर्षों में मेरे प्रत्येक उतार-चढ़ाव के दौरान मेरे साथ थे| उनके मजबूत हाथों ने मुझे कभी गिरने नहीं दिया न ही मुझे अकेला छोड़ा| इसकी बजाए, दूसरों के लिए आशीर्वाद होने का वरदान दिया|

यीशु से पहले का मेरा जीवन

यह 1999 का वर्ष था, जब मैं अपने इंटरमीडिएट शिक्षा के क्षेत्र में था| मेरा परिवार लम्बे समय से गंभीर परेशानियों और क्लेश में था| हमारा जीवन इतना दुखी था कि हम काफी अधिक परिश्रम किया करते थे लेकिन दिन के अंत में कुछ भी बाकी नहीं बचता था| यह ठीक एक बड़े गड्ढे के सामान था जो हमारी सारी आमदनी को खा जाता था और दूसरी ओर, हमारी गरीबी दयनीय जीवन शैली पर पड़ोसियों, रिश्तेदारों, और मित्रों के व्यंग्य होते थे| उनकी टिप्पणियां और भर्त्सनायें हमें बहुत अधिक चोट पहुंचाया करती थीं, लेकिन कोई इस पर ध्यान नहीं देता था क्योंकि, यह उनके लिए मजे की बात थी| साल दर साल के लिए पूरे दिन उन व्यंगों, टिप्पणियों, और मजाक उड़ाने वाली बातों को सुनकर मैं थक गया था|
मेरे पिता बहुत गरीब परिवार से थे और उनको सहारा देने वाला कोई नहीं था| उनकी शादी एक मध्यम वर्ग की महिला से हुई थी और उनके सारे इरादे और प्रयास जल्दी से अमीर होना था| अपने सपनो को साकार करने के लिए उन्होंने प्रत्येक संभावित व्यापार करने का प्रयास किया और वह यह भी नहीं चाहते थे की उनके बच्चे भी उनके समान गरीबी और भूख का सामना करें जिसका सामना उन्होंने अपने बचपन से किया किया था| मेरी माँ दिनभर सिलाई का काम किया करती थीं और हमारी दैनिक रोजी रोटी की कमाई करती थीं| एक बहुत छोटी सी धनराशि कमाने के लिए वह पूरा दिन काम किया करती थीं| मेरे माता पिता बहुत प्यार करने वाले और देखभाल करने वाले थे और हमें बहुत प्रिय थे क्योंकि हमारी गरीबी के बावजूद उन्होंने हमें भोजन, शिक्षा, कपडे और प्रत्येक चीज़ें जिसके लिए हमने उनसे कहा, उन्होंने दिया|
अमीर बनने की कामना करना पाप नहीं है, लेकिन इसके लिए छोटे रास्ते कभी काम नहीं करते और यदि वे काम करते भी हैं, तो वे बहुत कम समय के लिए| यही हमारे परिवार के साथ भी हुआ| हालांकि वह उन व्यापारों से धन कमाते थे, जिनसे कभी भी हमारी आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं हुई और वे कहीं और समाप्त हो जाते थे| हमारी दैनिक रोजी रोटी का एकमात्र स्रोत मेरी माँ की सिलाई का काम था| हालांकि मेरे माता पिता प्रत्येक संभव प्रयास कर रहे थे, लेकिन चीजे हमारे लिए बिलकुल काम नहीं कर रही थीं| जितना अधिक हम सफल होने का प्रयास करते थे, उतना ही अधिक हम गरीबी में फिसलते गए|
रोजाना, हमें अपने दिन के पहले भोजन के लिए दोपहर में 3:00 तक इंतजार करना पड़ता था| हमारे तीन छोटे भाई थे और उनमे राजू सबसे छोटा और विकलांग था| हालांकि हम चारों भाई अपनी किशोरावस्था में थे, हमारी माँ द्वारा बहुत छोटी मात्रा में तैयार किये गए भोजन और पानी से हमने अपनी भूख पर नियंत्रण पाना सीख लिया था| इस भूख और गरीबी के अलावा, हमारे मित्रों, पड़ोसियों, विशेष रूप से रिश्तेदारों के निष्ठुर शब्दों, जिन्होंने कभी एक पैसा भी नहीं दिया था, बल्कि चोट पहुँचाने वाले प्रश्नों को उछाला करते थे, जैसेकि – ‘सच्चे आदमी तुम्हारा जीवन कब ठीक होगा’, ‘हम शर्त लगते हैं की तुम्हारे पिता इसे कभी ठीक करने नहीं जा रहे हैं’, ‘निश्चित है की तुम्हारे बच्चे भिखारी बन जायेंगे’, ‘बेहतर होगा की घर/शिक्षा छोड़ कर कुछ काम में लग जाओ, कम से कम तुम्हारे लोग तो जीवित रहेंगे’| इन चुभने वाले शब्दों से हमारा कोमल ह्रदय एक दिन में कई बार टूटा होगा|
इंटर के प्रथम वर्ष में एक विषय में फेल हो जाने के कारण मेरी शिक्षा रुक गई और हम इस स्थिति में नहीं थे कि दूसरे वर्ष की फीस चुका सकें और न ही कम से कम पुनर्परीक्षा फीस का भुगतान कर सकें| क्योंकि 10/- रूपये भी हमारे लिए एक बहुत बड़ी राशि थी जो हमारे पूरे एक दिन के गुजारे में सहायक होती होगी|
दूसरी ओर, मैंने अपना चाल-चलन ख़राब कर लिया| मेरे माता-पिता ने मुझे बहुत अच्छी तरह पाला, लेकिन मेरे परिवार में, और न ही मेरे पिता के पास और न ही मेरी माँ के पास हमारे लिए कोई समय था| मेरी दैनिक दिनचर्या की देखभाल करने के लिए मेरे आसपास कोई नहीं था| धीरे-चीरे, मैंने जनरल स्टोरों से चीज़ें उठाना, पड़ोसियों के पैसों की चोरी करना शुरू कर दिया, और झूठ बोलने का आदी हो गया, और इन सब से भी बुरा मैं घातक पापी तरीकों का आदी हो गया| मेरी स्थिति बहुत खराब हो गयी और मैं उनसे बच नहीं सकता था क्योंकि उनको मैं अपने कष्टदायक जीवन को राहत देने के रास्ते के रूप में ले रहा था| ओह! किसी भी युवा व्यक्ति के लिए ऐसी स्थिति में होना बहुत दयनीय स्थिति थी| पाप की लत पालना किसी भी मानव के जीवन के लिए बहुत ख़राब है|

मुक्ति :

 

सितंबर 1999 के पहले सप्ताह में, एक दिन मेरा एक मित्र मेरे पास आया और बात करने के लिए मुझे बाहर ले गया| कुछ बातचीत के बाद, उन्होंने परमेश्वर के प्रेम के बारे में मुझे समझाना शुरू कर दिया| बहुत जल्द  ही मैंने कहा: “मैं जानता हूँ की आप मुझे ईसाई धर्म में परिवर्तित करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन अभी मैं इसके लिए तैयार नहीं हूँ न ही भविष्य में इसकी कोई संभावना है|

मैं यीशु से बहुत ज्यादा नफरत करता था| मैं तो कहूँगा बहुत-बहुत ज्यादा| हर समय ईसाइयों के साथ मैं काफी कड़वा था| मेरा घर एक चर्च के निकट था जहाँ वे दिन में बहुत सुबह गीत बजाया करते थे और जैसे ही मैं वह गीत सुनता था, मैं चर्च और ईसाईयों को गाली देना शुरू कर देता था| मुझे लगा कि दूसरे धर्मों के लोगों को ईसाई बनाने के लिए इन लोगों को भारी भुगतान किया जाता है और इनकी योजना हमारे देश से हिंदुत्व का उन्मूलन करना है| (यीशु को अपना उद्धारकर्ता स्वीकार करने के बाद मैंने एहसास किया कि मैं गलत था| हम में से प्रत्येक भारत का बहुत आदर करते हैं और हम अपने देश से प्यार करते हैं| शुरुआत की तुलना में अब मैं अधिक गर्व महसूस करता हूँ और ख़ुशी से कहता हूँ कि मेरा भारत सबसे महान देश है और भारतीय पूरे विश्व के सबसे अच्छे मनुष्यों में से हैं| क्योंकि हम भारतीयों के रक्त के प्रत्येक कण में प्यार, दया और संवेदना है| जो किसी भी धर्म, जाति और विश्वास का हो, प्रत्येक भारतीय निश्चित रूप से एकदूसरे के लिए प्यार और सहानुभूति रखता है| सर्वशक्तिमान परमेश्वर की तरफ से जन्म से ही हमारे पास यह एक उपहार है|

कहानी पर वापस आते हुए, यहाँ पर मेरा मित्र प्रतिदिन मेरे पास आया करता था और सर्वशक्तिमान परमेश्वर के प्यार और शक्ति के बारे में बताता था जिसे यीशु मसीह के माध्यम से क्रूस पर व्यक्त किया| लेकिन मुझे उसके उपदेशो को सुनने में कोई रूचि नहीं थी और मैं हर समय पास से गुजरते हुए लोगों को देखा करता था| वह मनुष्य मात्र पर प्रभु के प्यार और सहानुभूति के बारे में उपदेश देते हुए मेरे साथ घंटों बिताया करता था|

लगातार कई दिनों तक मुझे उपदेश देने के बाद, उसने मुझसे कहा – “भाई, मैंने तुमको यीशु मसीह के उपदेश और उसके प्यार और उसके फिर से जी उठने की शक्ति के बारे में उपदेश दिया है और मैं नहीं सोचता कि मेरी तरफ से कुछ भी छूट गया है|” यह कहकर वह उस दिन के लिए चला गया| उस दिन मैं आश्चर्य कर रहा था कि यह आदमी मुझे ईसाई बनाने के लिए इतना भावुक क्यों था| (फिर से, मैं यहाँ पर गलत था, वास्तव में वह मेरा धर्म परिवर्तन करने का इच्छुक नहीं था बल्कि एक प्यार करने वाले परमेश्वर – यीशु मसीह से मुझे परचित कराने का प्रयास कर रहा था, जो किसी भी मनुष्य को किसी भी बंधन से उद्धार करने में सक्षम है| केवल वही ऐसा उद्धारक है जो बहुत तीव्रता से बचाता है, केवल वही ऐसा परमेश्वर है कि जो उसकी दया को खोजते हुए आता है वह उसकी मदद करने के लिए हमेशा उत्सुक रहता है)|

उस दिन मेरे मित्र के छोड़ कर जाने के बाद, जो कुछ भी उसने मुझे सिखाया था उसे भूलते हुए मैं घर चला गया| मेरे परिवार के सभी सदस्य बाहर चले गए थे| मैं और मेरा सबसे छोटा भाई राजू, घर पर थे और बहुत जल्दी सो गए|

रात के करीब 11 बजे, अचानक मुझे लगा कि दीवार के बगल में कोई खड़ा होकर देख रहा है और जैसे-जैसे मैं उसे देख रहा था, वह प्राणी बाहर आता गया और मेरे सामने आकर खड़ा हो गया| यह लगभग 5’7 “लंबी एक काली तस्वीर थी| हे ईश्वर, वह इतना भयानक दिखाई दे रहा था की मैं डर से नीचे गिर गया और कंपकंपी में जकड गया था| लेकिन वहां एक चमत्कार हुआ, अनजाने में ही मैंने कहना शुरू किया “क्या यीशु का रक्त इतना विजयी हो सकता है,” “क्या उस सर्वशक्तिमान ईश्वर का नाम विजयी हो सकता है,” “क्या उस सर्वशक्तिमान ईश्वर का नाम विजयी हो सकता है,” मुझे पता नहीं था की मैं क्या कह रहा था और बिलकुल कुछ भी मालूम नहीं था कि मैं उस परमेश्वर को याद कर रहा हूँ जिनको कुछ क्षणों पहले तक मैं नफरत करता था|

जैसा कि अभी मैं उन शब्दों को बोले जा रहा था, अचानक ही, मैंने एक बहुत बड़े और सफ़ेद क्रूस को मेरे बिस्तर के आगे खड़ा देखा| यह लगभग 15′ फुट लंबा था और उज्ज्वल सफेदी में दमक रहा था| हमें इस धरती पर वैसा सफ़ेद रंग कभी नहीं मिल सकता| आश्चर्यजनक रूप से, जितनी जल्दी उस काले प्राणी ने इस बड़े और सफ़ेद क्रूस को देखा, वह प्रकाश की गति …… से दूर भाग गया‼ हे ईश्वर, उस घटना को देखकर मैं आश्चर्यचकित और प्रसन्न दोनों ही था|

जैसा कि भ्रम और ख़ुशी में एकसाथ डूबा हुआ मैं अभी भी प्रत्येक चीज को देख रहा था, कई छोटे क्रूसो का बना हुआ एक कम्बल आया और हमारे ऊपर गिर गया| मैं इतना अधिक प्रसन्नता से भरा हुआ था कि यह भी ध्यान नहीं दे पाया था कि उस दिन से मेरा भाई कहाँ जाने लगा था और चूंकि वह गूंगा और लंगड़ा था, इसलिए वह भी कोई प्रतिक्रिया नहीं दिखा पाया था| लेकिन मैं आश्वस्त हूँ कि उसे भी इसका अनुभव होना चाहिए| मैं यीशु मसीह के प्रति एक असाधारण विश्वास से भर गया था और मेरे भीतर एक मजबूत विश्वास उठा कि यह परमेश्वर निश्चित रूप से मेरी गरीबी, परेशानियों, कर्जों और मेरे जीवन की कमियों से बाहर निकालने में मेरी सहायता करेगा| मुझे यीशु में इतना अधिक विश्वास पाया कि यह परमेश्वर, निश्चित रूप से मेरे बन्धनों से मेरा उद्धार करेगा और मेरे प्रत्येक सपने को पूरा करेगा|

तुरंत ही मैंने यीशु मसीह को अपने व्यक्तिगत उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार कर लिया और उसे अपने मुँह से और पूरे दिल के साथ.. ! मेरा एक और केवल भगवान होना स्वीकार कर लिया|

तभी से, प्रत्येक सुबह और शाम और या यह भी कह लें, जब भी मुझे समय मिलता, मैं उसके उद्धार की मांग करते हुए उसकी प्रार्थना किया करता था| उस समय मेरी प्रार्थना बहुत सरल होती थी| जैसे हम में से एक किसी मित्र से बात करता है, मैं उससे अपने जीवन के प्रत्येक दर्द और परेशानियों को बताया करता था, उसकी उपस्थिति में प्रत्येक भावना को व्यक्त किया करता था|

एक दिन जबकि मैं प्रार्थना कर रहा था, मैं आंसुओं से रोने लगा और अपने पूर्व में किये गए पापों और गलती को स्वीकार करना शुरू कर दिया| उस दिन मैं कई घंटों तक रोता रहा और शुरू में अपनाए गये अपने पापपूर्ण रास्तों के लिए पश्चाताप किया| फिर कुछ समय के बाद, मैंने अपने दिल की गहराई में महसूस किया कि किसी ने मेरे सारे पापों को बाहर निकाल दिया है जो उस समय तक मेरे ह्रदय पर बहुत भारी थे| आहा! मैं मुक्त हूँ| अपने पापी तरीकों और विचारों से मेरा उद्धार हो गया था| परमेश्वर ने मुझे क्षमा कर दिया था .. ‼ इस समय मैं अनंत आनंद से भर गया और बस ख़ुशी में नाच रहा था|

ठीक उसी दिन पर, मैंने एक प्रण किया कि इस सुनहरे, अनंत और शांतिपूर्ण रास्ते को छोड़कर मैं अपने पुराने दुष्ट और पापी तरीकों पर फिर से ठोकर नहीं खाऊंगा| परमेश्वर ने मेरे जीवन के सभी मामलों में मुझे आशीष देना प्रारंभ कर दिया| वह बाइबिल की आयतों के माध्यम से मुझसे बात किया करता|

 

सच में! इस परमेश्वर पर, जिसमे मैंने अपना पूरा विश्वास व्यक्त किया है, उसने मुझे कभी पीछे नहीं छोड़ा था न ही किसी समय छोड़ा| इस दिन तक, मेरे आसपास कई लोग हैं जो कहते हैं कि यीशु में मेरा विश्वास कभी व्यर्थ नहीं गया था| जैसे-जैसे दिन गुजरते गए, उसने मुझे सब कुछ दिया, हमारा प्रत्येक कर्ज चुकाया, गरीबी दूर किया और मेरे रिश्तेदारों और मित्रों के बीच मुझे बहुत सारा आशीर्वाद दिया| इन सब से ऊपर, उसने मेरे ह्रदय को मेरे पापों से शुद्ध किया और मुझसे एक शाश्वत जीवन का वादा किया, ऐसे अच्छे और प्यार करने वाले ईश्वर की लाखों स्तुतियाँ|

 चमत्कार शुरू हुए

 

मैं तेजी से यीशु मसीह की ओर बढ़ रहा था और धीरे-धीरे समय ने अपने पहलू बदलना शुरू कर दिया| मैंने अपनी जिंदगी में एक के बाद एक चमत्कार पर चमत्कार देखा| छोटी चीजों से लेकर बड़ी चीजों तक, पारिवारिक मुद्दों से लेकर वित्तीय परेशानियों तक ..| मेरे यीशु ने अपने ही अंदाज में मेरे जीवन का सब कुछ संभाल लिया| मैं अभी भी विश्वास नहीं कर पाता हूँ की अत्यधिक गरीबी से समृद्धि तक चीज़ें कैसे परिवर्तित हो गयीं| मैंने कुछ भी असामान्य कभी नहीं देखा| मानो पैसा स्वर्ग से गिर रहा है, कोई लाखों डालर का ब्रीफकेस मेरे आसपास छोड़ रहा है, या ऐसे ही|लेकिन चीजें बड़ी चुपचाप बदलीं| इतने धीमे से कि मैं भी जो परमेश्वर से चमत्कारों के लिए प्रार्थना करता था उसे भी, जो जीवन में बहुत छोटे क्षणों पर अध्ययन करने के लिए टकटकी लगाये रहता था कि चीज़े कैसे आगे बढ़ रही हैं . . . मेरे अंदर की प्रकृति ने मेरे जीवन में ईश्वर की योजना और कार्य का अवलोकन करने में मेरी सहायता किया| मैंने प्रार्थना किया, उनको विश्वास से देखा, ईमानदारीपूर्वक विश्वास किया, और निस्संदेह उन्हें जीवित देखा! धन्य है वह पवित्र आत्मा जिसने मुझे इस उत्कृष्ट नियम का पालन करना सिखाया|

मेरे जीवन की सबसे पहली चिंता जिसे यीशु ने सम्भाला वह गरीबी और हमारे परिवार पर उसके प्रभाव थे| जैसा कि मैंने शुरू में कहा है, उस दिन तक हमारे ऊपर बहुत कर्ज था और हमारे ऋणदाता रोज़ाना हमें परेशान किया करते थे| एक सुंदर सुबह, उन लेनदारों में से एक मेरे घर आया और मेरे पिता ने उससे कहा कि अगर व्यवसाय शुरू करने के लिए वह हमारी सहायता कर सकते| पहले तो उसने मेरे पिता को डांटा, फिर कुछ समय के बाद अचानक उसका स्वर मृदु हो गया और हम लोगों से अच्छी तरह बोला फिर रू 2500/-  बाहर निकाला और मेरे पिता को दे दिया| हे ईश्वर, मैं इस चमत्कार को देख कर चौंक गया था! एक आदमी जो प्रतिदिन पैसा वापस करने के लिए बार-बार हम लोगों पर दबाव डाल रहा था उसने एक नया व्यवसाय शुरू करने के लिए हमारी सहायता किया| यह मेरे परमेश्वर ही थे जिन्होंने उसे दयालु ह्रदय देकर हमें आशीर्वाद दिया था| हाँ! परमेश्वर में अपनी योजना और इच्छा के अनुसार किसी भी इंसान को नियंत्रित करने और उसे बदलने की शक्ति है| वह इतना दयालु और कृपालु परमेश्वर है कि उन सभी लोगों के लिए जो उसे प्यार करते हैं, उनकी भलाई के लिए प्रत्येक चीज को एकसाथ काम करने के लिए निर्धारित कर देता है – आमीन|

उन थोड़े से पैसों से, मेरे पिता ने सड़क के किनारे चलता फिरता छोटा फ़ास्ट फ़ूड सेंटर शुरू किया| उन्होंने सबसे पहले इसे भीड़ वाले चौराहे पर शुरू किया| उस भीड़ को देखकर, मैंने सोचा कि हमें बहुत अधिक आशीर्वाद मिलेगा| लेकिन दुर्भाग्य से खाने की एक दर्जन प्लेटें भी वहां नहीं बिकीं| उस बिक्री से हम काफी निराश हो गए| मुझे पता नहीं कि किसने उन्हें सिखाया था, मेरे पिता ने अपना स्थान कुछ आवासीय और थोड़े से वाणिज्यिक इमारतों वाले छोटे से चौराहे पर बदल दिया| इस चौराहे का किसी भी तरह पुराने वाले से तुलना नहीं थी| हमारे फ़ास्ट फ़ूड सेंटर ने केवल थोड़े लोगों को आकर्षित किया और रू 50/- से रू 100/- तक बिक्री हुआ करती थी| मेरे पिता को वहां कभी भी एक बड़ी बिक्री की आशा नहीं थी लेकिन फिर भी वह खुश थे क्योंकि उनके पास रोजी रोटी कमाने के लिए कुछ था!

दूसरी ओर, मेरा विश्वास तेजी से और लगभग पूरे दिन बढ़ता जा रहा था, मेरा मुख और ह्रदय परमेश्वर की स्तुति करता और मेरी प्रार्थना के अनुरोध को उसकी उपस्थिति में रख रहा था| मैं कहा करता था : हे भगवान मुझे नहीं पता है कि आप क्या करने जा रहे हैं लेकिन कृपया कम से कम पानी के 50 बर्तन प्रतिदिन लाने में मेरी सहायता करो (जैसा कि मैं पीने और बर्तनों को धोने दोनों के लिए पास के कुँए से पानी ला रहा था)| तब तक हमारे लिए पानी के केवल कुछ ही बर्तन पर्याप्त थे|

जैसा कि मैं बड़े विश्वास के साथ प्रार्थना कर रहा था कि मेरा प्रभु निश्चित रूप से मेरे व्यापार को आशीष देगा,मेरे प्रभु यीशु मसीह ने हमारे कारोबार को प्रचुरतापूर्वक विकसित करने के लिए अपना आशीर्वाद दिया| कुछ ही समय में यह वृद्धि हुई और हमारी बिक्री 100/ रुपये प्रतिदिन से 3000/ प्रतिदिन से अधिक हो गयी और वह हमारे लिए आवश्यकता से भी अधिक पर्याप्त था| हमारे आसपास के सभी होटलों ने अपने कारोबार को लगभग बंद कर दिया और अपने परिसर खाली कर दिये| मेरे पिता ने अच्छी ख्याति प्राप्त किया – ‘यह व्यक्ति अब अपने आसपास के प्रत्येक होटल को भयभीत करने लगा|’ यही कारण है कि भगवान ने सिर्फ अपने बेटे (मेरा) का एक पिता होने के लिए उन्हें गौरवान्वित किया| हाँ मेरे प्रिय मित्र, हमारा भगवान न केवल हमें,बल्कि वह हमारे माता-पिता, भाईयों, रिश्तेदारों, मित्रों और उन सभी लोगों को जो हमें आशीर्वाद देंगे उनको भी आशीष देता है|

हां, भगवान कुछ भी और हर किसी को कायम रख सकता है| यह अगर भगवान ही है जो (धूल से भी) आप को जन्म देता है, कि यहाँ का हर इंसान आपको खुशी से स्वीकार करेगा| यही कारण है कि सर्वशक्तिमान भगवान इस धरती पर अपना नियंत्रण दर्शाता है| वह हमेशा आपके जीवन में असंभव चीज़ें लाकर आपकी और आपकी प्रत्येक चीज़ों में आपकी हर मदद करने के लिए अपनी क्षमता साबित करने की प्रवृत्ति रखता है|

हमने अपना कर्ज चुकाना शुरू कर दिया, हम एक नए और बड़े घर में चले गए और मैं स्वयं, फिर से अध्ययन करने लगा था| हमारे सभी रिश्तेदार हमारी ओर वापस आना शुरू हो गए| उसने उनमें नए और सच्चे प्यार को जन्म दिया और वे हमारा बहुत गर्मजोशी से स्वागत करने लगे थे| सभी चीजें हमारे पक्ष में अत्यधिक स्वाभाविक रूप से परिवर्तित हो गयी और यह मेरा उद्धारक, यीशु मसीह, था जिसने नाटकीय रूप से सब कुछ बदल दिया|

इस धरती पर एक और केवल एक ही भगवान अभी तक रह रहा है, जो बहुत  दयालु, शक्तिशाली और सब से अधिक, हर समय हमें सहारा देने के लिए काफ़ी धैर्यवान है| हम मनुष्य उसे हर दिन कई बार परेशान करते हैं| मैं भी इतना अधिक धार्मिक नहीं था जब तक मेरे यीशु को स्वीकार करने के बाद, उसने मेरे ह्रदय को शुद्ध नहीं कर दिया| मैं इधर उधर ठोकर खाया जैसा हम में से प्रत्येक करता है, जबतक हम उसके अमूल्य खून द्वारा उसकी स्वयं की छवि में नहीं बदल जाते|

मेरी परिस्थितियां जो भी रही हों, जब भी मैंने उनके चरणों में अपने पापों का पश्चाताप किया है और मुसीबत के समय में उसकी दया चाहा है, यीशु मसीह मुझसे कहते थे:

अपने ह्रदय को किसी भी स्थिति में परेशान मत होने दोबस मेरे पास आओ और मैं तुम्हारी सभी समस्याओं का समाधान करूँगा, और निश्चित रूप से तुमको सारे बंधनों से मुक्त करूँगा| क्योंकि मैं तुम्हारा परमेश्वर हूं और तुम मेरे प्यारे बच्चे हो| मैं तुमको इतना अधिक प्यार करता हूँ कि तुमको इस संसार के बुरे बंधनों से मुक्त करने के लिए मैंने अपना स्वयं केजीवन को क्रूस पर लटका दिया|अगर तुम मेरे पास आते हो और मुझमे विश्वास करते हो, तो मैं तुमको किसी भी परेशानी से बचाने के लिए पर्याप्त हूँ| मैं तुम्हारे श्रम और जमीन को इसके सबसे बेहतर फल देने के लिए आशीष दूंगा और तुम्हारे दुश्मनों को भी तुम्हारे पक्ष में कर दूंगा| क्योंकि मैं वही हूँ जिसने स्वर्ग और पृथ्वी की रचना किया है और मेरी क्षमता की कोई सीमा नहीं है और मेरी शक्ति नापे जाने योग्य नहीं है| तुम्हारे लिए मेरी योजनायें आश्चर्यजनक हैं और मेरे रास्तों का पालन करना सरल है| तुम सभी को दिल से इमानदारी के साथ मेरे रास्तों का पालन करना है|” 

अहा.. ऐसे प्यारे और वादा निभाने वाले भगवान की लाखों स्तुतियाँ जो हमारी परवाह करता है और एक पिता की तुलना में माँ की तरह हमारी रक्षा करता है …..!

हाँ! यह यीशु मसीह की दया है जिसने तुम्हारे और मेरे आसपास कई लोगों को पाप, गरीबी, बीमारियों, परिवार में क्लेश, अस्थिर वित्तीय स्थितियों, जादू टोने की शक्तियों, व्यसनों, तलाक, अवैध संबंधों, बांझपन (बच्चे की कमी), सुनसान (अकेलापन),और प्रत्येक समस्या जिसका इनदिनों मनुष्य सामना करता है, के बंधनों से मुक्ति दिलाई है|ऐसा कुछ भी नहीं है जिससे यीशु मसीह आपका उद्धार करने में सक्षम नहीं हैं! तुमको बस उसमे यह विश्वास करना है कि वह ‘निश्चित रूप से उद्धार’ करेगा|

 

पवित्र आत्मा का अभिषेक:

मैं लगातार प्रार्थना भगवन के शब्दों का ध्यान करता रहता था| ऐसा नहीं था कि एक ही रात में प्रार्थना करने वाला योद्धा में बदल गया था| मैं स्वयं से आग्रह करता था और विश्वास और प्रार्थना बढाने के लिए ईश्वर से कहा करता था और ईश्वर विश्वास और प्रेम बढाने में मेरी सहायता कर रहा था| जितना अधिक मैं उसमे विश्वास बढाता था, विपरीततया उतना ही प्रेम मेरे भीतर बढ़ रहा था| जैसा की बाइबल में कहा गया है मेरा दृढ विश्वास है कि प्रेम और विश्वास निकटता से सम्बंधित हैं और जब हम उसकी उपस्थिति को दैनिक आधार पर खोजते हैं तो एकजुट होकर बढ़ते हैं|

एकदिन, मैं ल्यूक के सुसमाचार के अध्याय 11 पद्य 13 पढ़ रहा था, तो मैंने ईश्वर के शब्द कहते हुए पाया: हमारा स्वर्ग का पिता सभी को निश्चित रूप से पवित्र आत्मा प्रदान करेगा जो इसके लिए उससे मांग करेंगे|

इस कविता ने मेरे ह्रदय को छू लिया और इस वादे को बाइबिल में देख कर मैं बहुत प्रसन्न हुआ| उसके पहले, मैं सोचा करता था कि पवित्र आत्मा की शक्तियां केवल पादरियों और बड़ों के लिए हैं| हालाँकि, मेरे चर्च के पादरी ने मुझसे कई बार कहा था, मैं सिर्फ उन दृष्टान्तों को ईश्वर की शक्ति और योग्यता के सन्दर्भ में ले रहा था|

लेकिन जैसे ही मैंने इस पद्य को देखा, मैंने पवित्र आत्मा के लिए प्रार्थना करना शुरू कर दिया| मैं सिर्फ पवित्र आत्मा की मांग करते हुए प्रार्थना में कई घंटे व्यतीत किया करता था| प्रति सप्ताह 2-4 दिन के उपवास, और 3-6 घंटे प्रतिदिन की प्रार्थना से, मैंने प्रभु के चरणों में पूरे एक वर्ष तक पवित्र आत्मा का वरदान पाने के लिए प्रार्थना किया| मैं मेरे अन्दर किसी भी छुपी हुई गलती की माफ़ी के लिए सारा दिन रोया होऊंगा|

हर सुबह, फास्ट फ़ूड सेंटर पर मैं अपना काम पूरा किया करता था और घर से बहुत दूर गुप्त प्रार्थना कक्ष भाग जाया करता था| हमें अपने मित्र का धन्यवाद करना चाहिए जिन्होंने मुझे अपने घर पर लगभग एक वर्ष तक प्रार्थना करने की अनुमति दिया|

इस प्रार्थना कक्ष तक पहुंचने में अगर कोई मुद्दा था, तो मैं पास की रेल लाइनों का उपयोग किया करता था और उसके साथ अकेले कुछ मील तक चलकर वहां अकेले प्रार्थना किया करता था|

प्रभु से सबसे अच्छा पाने के लिए, याद रखो, हमारे पास कुछ शांतिपूर्ण स्थान होना चाहिए जहाँ हम प्रभु से बात कर सकें और प्रभु हमसे बात कर सके|

मैं प्रत्येक दिन सिर्फ पवित्र आत्मा के लिए आंसुओं से प्रार्थना किया करता था, क्योंकि प्रभु ने पहले ही मुझसे वादा किया था (बाइबिल के माध्यम से) कि वह मेरी सभी समस्याओं का ध्यान रखेगा|

पूरे एक साल तक प्रतिदिन प्रार्थना करने के बाद उसके वादे को कायम रखने के लिए, मई, 2001 के दूसरे दिन जब मैं कुछ पादरियों और बड़ों के साथ प्रार्थना कर रहा था, जब अचानक मैंने यीशु को अपने फरिश्तों के साथ देखा जिन्होंने मेरे सर पर मुकुट रखा और मुझे आशीर्वाद दिया| हे भगवान् धन्य है! प्रभु ने हमसे अपने वादे (ल्यूक 11:13) के अनुसार मुझे पवित्र आत्मा का आशीर्वाद दिया|

मैं असीम खुशी और प्रसन्नता से भर गया| मैं घंटों तक अपने प्रभु की प्रशंसा करता रहा| कितना महान हमारा प्रभु है| वह हमारी प्राप्त करने की क्षमता से बाहर जाकर अपने प्रत्येक वादे को पूरा करता है| मेरा विश्वास है कि मनुष्यों को उनकी अक्षमता से परे प्यार करने का अनोखा गुण केवल भगवान के लिए संभव है|

आज के दिन भी, यह पवित्र आत्मा है, जो हमारे जीवन के प्रत्येक मोड़ पर अपने बहुमूल्य मार्गदर्शन के साथ हमारी मदद करता है| वह हमारे लिए प्रतिदिन प्रार्थना करता है| वह वहां पर मेरे जीवन के प्रत्येक मिनट पर मेरे साथ रहा है और छोटी से छोटी बातों का ध्यान रखा है| वह मुझे बचाता है, मार्गदर्शन करता है, मेरे नेतृत्व करता है, और मेरे लिए बहुत कुछ करता है| यह पवित्र आत्मा ही है, जो मेरे द्वारा सामना की जा रही इतनी अधिक चुनौतियों के बाद भी मुझे विश्वास के साथ खड़ा रखता है|

हमारे पास क्या प्रभु है .. हे भगवान .. उसकी लाखों प्रशंसाएं|

विवाह:

जब हमें प्रभु द्वारा गरीबी से ऊपर उठाया गया और आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद, मेरे पिता मेरे लिए एक जीवन साथी की तलाश करना शुरू कर दिया| मैंने अपनी स्नातक की डिग्री प्राप्त कर लिया था और एक बहुराष्ट्रीय बैंकिंग संस्था में अधिकारी के रूप में काम कर रहा था| मेरा पूरा समय नौकरी में और प्रभु की चाकरी में गुजर रहा था| मेरा पूरा जीवन खुशी से चल रहा था और मुझे यह नहीं मालूम था कि बहुत जल्द मेरी प्रसन्नता दूनी होने जा रही है!

एक दिन मेरे चर्च के पादरी ने कहा कि मेरे लिए शादी करने का यह उचित समय है| मैंने हँसकर कहा “प्रभु की उसकी इच्छा करने देते हैं”|

मैंने दृढ़ता से एक नास्तिक व्यक्ति से शादी न करने का फैसला किया था क्योंकि प्रकाश का अंधेरे के साथ कोई काम नहीं होता है|

चूंकि मैं जानता था कि यदि मैं एक नास्तिक व्यक्ति से शादी करता हूँ तो घर पर मुझे फिर से संघर्ष करना होगा जैसा मुझे ईसाई होने के पहले के दिनों में करना पड़ा था| प्रभु के शब्द ने भी कहा है कि ‘प्रकाश का अंधेरे के साथ कोई रिश्ता नहीं है’|

तुम मुझसे पूछ सकते हो कि हमें गैर ईसाई से शादी क्यों नहीं करना चाहिए| प्रिय, हम एक या दो दिन के लिए अपने प्रिय व्यक्ति के प्रति आतिथ्य दिखा सकते हैं

हम अन्यजातियों से शादी नहीं करना चाहिए तुम मुझे क्यों पूछ सकते हैं. प्रिय, हम एक या दो दिन के लिए अपने प्रिय व्यक्ति के प्रति आतिथ्य दिखा सकते हैं या नियमित यात्राओं के साथ (लगातार और लंबे समय तक नहीं), ईश्वर के शब्द को साझा कर सकते हैं| लेकिन उनके साथ एक स्थाई बंधन एक दिन या दूसरे दिन क्या तुम्हें परेशान या भ्रष्ट नहीं करेगा? यदि तुम पहले ही से एक गैर ईसाई से विवाहित हो, तो अलग मामला है, बंधन का पालन करते हुए, तुमको अपने जीवन साथी के लिए प्रार्थना करना चाहिए और प्रभु उसके ह्रदय को बदल देंगे|

इसलिए मैंने यीशु मसीह के उपदेशों के अनुसार निश्चय किया कि मैं केवल फिर से जन्मी ईसाई लड़की से ही शादी करूँगा| एक दिन जब मैं बाइबिल पढ़ रहा था, मैंने सोलोमन 31:10 पाया जो कहता है पत्नी एक मोती के समान बहुमूल्य है! वह प्रभु के अद्भुत शब्द हैं, यह कैसा होगा यदि मैं उन बहुमूल्य मोतियों को पाता हूँ? उसी लाइनों का जिक्र करते हुए मैंने प्रभु की प्रार्थना करना शुरू कर दिया| वास्तव में यह पवित्र आत्मा थी जिसने मुझे यह रास्ता दिखाया|

हे भगवान .. उसके वादे के अनुसार चीजों ने मेरे पक्ष में काम करना शुरू कर दिया|

प्रभु ने मेरे घर, रिश्तेदारों, और आसपास के सभी ज्ञात लोगों के बीच अच्छी प्रतिष्ठा दिया है| इस अच्छे नाम ने मेरे लिए बहुत प्रस्ताव भिजवाया लेकिन मेरा दिल फिर से पैदा लड़की से शादी करने के लिए अटक गया था| जब मैंने इस बात को अपने माता पिता से स्पष्ट किया, उन्होंने पहले तो विरोध किया, लेकिन बाद में, परिवार में ईसाई लड़की को स्वीकार करने के लिए कुछ शर्तें रख दिया|

मेरी माँ की शर्त : लड़की सुंदर और घर के कामकाज से अच्छी तरह जानकार होना चाहिए|

मेरे पिता की शर्त : उसे अच्छी तरह से शिक्षित होना चाहिए|

मेरे भाई ने कहा कि उसे प्यार करने और देखभाल करने वाली और बहुत मित्रतापूर्ण होना चाहिए|

इन सबसे ऊपर मेरी इच्छा एक धार्मिक, प्रभु से डरने वाली, फिर से जन्मी और धार्मिक ईसाई लड़की से शादी करने के लिए था|  अब ये स्थितियों मेरे लिए बहुत कठिन दिखाई दे रही थीं! मुझे इस तरह का मेल पाने पर संदेह था, लेकिन भगवान में विश्वास था कि वह कुछ भी करने में सक्षम है|

सबसे पहले मैंने ऊपर की सभी स्थिति से मेल खाते हुए रिश्तों को खोजना शुरू किया, लेकिन कुछ महीनों के बाद, मैंने अपना धैर्य खो दिया और रास्ते में मिलने वाले किसी से भी शादी करने का निश्चय किया|लेकिन मेरे सबसे प्रिय भगवान, पवित्र आत्मा ने मुझसे कहा, मेरे प्यारे “जल्दी मत करो!”  भगवान तुम्हारे लिए अच्छी बातें कर रहा है, और देखो, उनको तदनुसार निभाया जाएगा|”  उस पवित्रा आत्मा से यह सुनने के बाद, मैंने अपनी योजनाओं को वापस बदल दिया और उसकी दया का इंतजार करने लगा| मैंने अपने रिश्तेदारों के प्रत्येक शादी के प्रस्तावों से इनकार कर दिया हालांकि उनके प्रोफाइल अच्छे थे, लेकिन वे मसीहियों में से नहीं थे|

एक दिन मेरा एक जानकारी के भाई ने मुझसे उसके एक रिश्तेदार के लिए रिश्ते का पता लगाने में मदद करने के लिए कहा| मैं दिल से उसे कुछ रूपये देने और उसके साथ कुछ समय बिताने के लिए भी प्रेरित था| इसलिए प्रभु के प्रेम के अनुसार, मैंने उसे कुछ रूपये दिए और उसके साथ गया, वह एक पादरी से मिला और बाद में वे दोनों ने खोजना जारी रखा और मैं इधर उधर मदद कर रहा था|

एक दिन उस भाई ने मुझे फोन पर बुलाया और मुझसे एक स्थान पर जल्दी से आने के लिया कहा| जिस स्थान के लिए उसने कहा था वह मेरे कार्यालय से 25 किलोमीटर दूर था| हालाँकि, मैं शुरू हो गया क्योंकि यह प्रभु का आदमी था जिसने मुझे आने के लिए कहा था| जैसे ही मैं वहां पहुंचा, उन्होंने मुझे एक लड़की का फोटो दिखाया और मुझसे पूछा कि क्या वह मेरे लिए शादी के लिए ठीक है|

मैंने कहा कि इस लड़की को सुन्दर होना चाहिए लेकिन फोटो ख़राब था और कहा कि अगर हम उसके घर जा सकते| सभी तीनो पादरी सहमत हो गए और थोड़े ही समय में हम गाडी से वहां पहुँच गए| चूंकि प्रभु के उपहार को स्वीकार करने में देरी से उसको खो देने की संभावना रहती है|

हालांकि किसी निष्कर्ष पर पहुँचने से पूर्व एक ईसाई को प्रभु के साथ जांच करना प्राथमिक कर्तव्य है| लेकिन उन्हें स्वीकार करने में देर नहीं करते| बस उसकी ‘उपस्थिति’ में प्रार्थना करो और अपने दिल में स्वीकार करो कि प्रभु तुम्हारी ओर काम कर रहा है और जिस ओर तुम्हे जाना चाहिए उस ओर के लिए तुम्हारा मार्गदर्शन करेगा|

सबसे पहली बैठक में, मेरे भीतर के आदमी ने मुझसे कहा – “प्रभु की ओर से तुम्हारा उपहार यहाँ है|”

हमने अपने परिसाक्ष्यों की अदला बदली किया और मैंने अपना वेतन और परिवार के बारे में विवरण बताया| जो भी हमारे भीतर ‘प्रभु का डर था’ उसे हमने एक दूसरे में पसंद किया| बड़ों और पादरियों ने प्रभु  की इच्छा के लिए प्रार्थना किया और हम अपने अपने रास्तों पर वापस चले आये|

जैसे ही हमें प्रभु की ओर से पुष्टि प्राप्त हुई, मैंने व्यक्तिगत रूप से प्रभु के चरणों में प्रार्थना किया, हमने अपने माता-पिता को सूचित किया और उनसे अनुरोध किया कि हमारे चुनाव को सत्यापित करें| मेरे माता-पिता ने जब उसे दूसरे दिन देखा तो उसे और उसके माता-पिता को भी स्वीकार कर लिया| प्रभु सबकुछ और जैसी उम्मीद थी, ठीक तरह से समाप्त करने ओर नेतृत्व कर रहा था|

इन दिनों कुछ बुरे चाचाओं के विपरीत, मेरे ससुर बहुत उदार व्यक्ति थे, जो हमेशा दूसरों की भलाई के बारे में सोचा करते थे| और मेरी चाची भी बहुत उदार थीं| कड़ी मेहनत करने वाली और दयालु ह्रदय वाली महिला थीं| मेरे चचेरे भाई भी मेरे लिए अच्छा सम्मान रखते थे|

मेरे प्रिय प्रभु ने मुझे बहुत अच्छे परिवार का आशीर्वाद दिया था| कई बार मेरी पत्नी ने मुझसे कहा कि यह तुम्हारा प्रभु ही था जिसने मेरे परिवार को तुम्हारी ओर मोड़ दिया था! हे भगवान्! आज मेरे कई भाई अपने ससुराल वालों के घर से कई समस्याओं का सामना कर रहे हैं| लेकिन मेरे प्रभु ने हम दोनों को अच्छे परिवारों का आशीर्वाद दिया है जो हमारे किये गए हर निर्णय का समर्थन करते हैं|

शादी के समय, मेरे पास पैसे कम हो गए थे क्योंकि मैंने अपने वेतन का एक बड़ा हिस्सा चर्च को और दूसरे दानी संस्थाओं को देने की आदत बना लिया था और बाकी को अपने घर के लिए खर्च करता था|

मेरे पिता और मेरे चाचा (मेरी पत्नी के पिता) ने मेरी कुछ पैसों से मदद किया और हम लोगों को कुछ और पैसों की जरूरत थी, तो मैं एक बैंक के पास कर्ज लेने के लिए गया और यह पहले ही 25वीं मार्च थी और मेरी शादी 03 अप्रैल को तय थी| मैं अपने प्रभु के चरणों में सहायता के लिए प्रार्थना कर रहा था| मैं पैसों के समायोजन के बारे में बहुत चिंतित था| अगर ऋण का अनुमोदन नहीं हुआ, तो शादी रुक जायेगी जो बहुत ही खराब बात हुई होती| लेकिन देखो . . . . प्रभु मेरी तरफ है . . . .‼

31वीं मार्च को, मैंने बैंक से एक फोन प्राप्त किया कि मेरे ऋण को मंजूरी मिल गयी थी और मेरा पैसा मेरे खाते में 3 अप्रैल को मिल जाएगा| मैं बहुत उलझन में था कि आभूषण की दूकान से आभूषण कैसे खरीदूंगा और समारोह हॉल और अन्य के लिए अग्रिम भुगतान कैसे करूँगा| छोटे छोटे कामों को पूरा करने के बाद मैं नाखून काटने बैठा था लेकिन प्रभु के शब्द के माध्यम से (बाइबिल), मैं प्रत्येक दिन उत्साहित हुआ करता था कि मेरा प्रभु हर चीज की देखभाल करेगा और मुझे चिंता करने की जरूरत नहीं है|

मेरे ऋण की राशि मेरे बैंक के खाते में जमा कर दिया गया था लेकिन निकालने की सीमाओं के कारण, मैं अपने खाते से पैसा निकालने में सक्षम नहीं था| इसलिए मैं आभूषण की दूकान पर गया जो कुछ भी हुआ था उसे उनको बताया और अपना डेबिट कार्ड उनको सौंप दिया| हैरानी की बात थी कि उन्होंने मुझे गहने दे दिए और मैं घर की ओर भागा क्योंकि यह पहले ही सुबह के 09:30बज गए थे और मेरी शादी सुबह के 11:00 बजेहै|

10 प्रसिद्ध पादरियों, ईसाई मत प्रचारकों, और प्रभु के मंत्रियों सैकड़ों शुभचिंतकों और सभी पक्षों के रिश्तेदारों (यहां तक कि हमारे करीबी रिश्तेदारों में से एक भी परिवार ने मेरी शादी नहीं छोड़ा), की उपस्थिति में मेरा विवाह समारोह एक त्योहार की तरह था और सब कुछ इतनी आसानी से हो गया| मेरे परिवार के सदस्यों सहित हर कोई सर्वशक्तिमान प्रभु की कृपा और उनकी उपस्थिति में जिस तरीके से शादी संपन्न हुई थी उससे बहुत प्रसन्न था|

मेरा अपना भाई, माता पिता, चचेरे भाई (मेरे जीवनसाथी भाई), मेरी चर्च पादरी, उनके कंधों पर सब कुछ ले लिया और सफलतापूर्वक इस घटना प्राप्त करने में मदद की.

मेरी शादी जीवन, यहाँ और वहाँ कठिन घंटे का एक छोटा सा है, हालांकि सही मायने में भी मुझे बहुत कुछ सिखाया है और यहां तक ​​कि यीशु ने अपनी पत्नी और बच्चों के माध्यम से कई बातें जानने के लिए मेरी मदद की जो खुश, आश्चर्य की बात क्षणों का एक बंडल है

नीतिवचन 31:10 में वादा किया था, उसी तरह मेरी पत्नी वास्तव में मेरे लिए एक कीमती आभूषण है. वह अच्छे सलाहकार, कोमल, प्यार और देखभाल व्यक्ति है. मुझसे ज्यादा शिक्षित किया जा रहा है, वह अच्छा और त्वरित निर्णय लेने में बहुत मददगार है. मुझे इस तरह के एक अच्छा जीवन साथी देने के लिए यीशु का भजन.

उत्पत्ति 1:28 भगवान उन्हें आशीर्वाद दिया और उपयोगी बनो और संख्या में वृद्धि “ने उन से कहा; पृथ्वी को भरने और इसे वश में.

 

बच्चे:

शादी के एक ही वर्ष में, यीशु ने एक लड़के के साथ मुझे आशीर्वाद दिया. यहाँ मैं दयालु यीशु की कृपा से केवल बचा लिया गया था, जो मेरी पत्नी की गवाही का हिस्सा होना चाहिए.

मेरी शादी के बाद 3 महीने में, मैं मैं अपने भाई से बात कर रहा था, जिसमें एक सपना देखा था और यीशु ने मुझे मैं ‘थिओडोर’ नाम जिसे एक पुत्र देने जा रहा है कि उसे समझा रहा था. मैं सुबह उठा, जब हम अपने परिवार में इस नाम कभी नहीं था, क्योंकि मैं सपने के साथ चकित हो गया था और न ही मैं पहले कभी कहीं भी इस नाम सुना .. !! यह सच हो मेरा सपना के लिए ज्यादा समय नहीं लिया. ठीक एक दिन में, मेरी पत्नी वह अच्छी तरह से नहीं लग रहा है और एक नर्स के आसपास उसकी जाँच की है और वह गर्भवती पुष्टि की है कि मुझे बताया था. हे भगवान ..

7 महीने में, मेरे पिता जी अपने घर के लिए मेरी पत्नी को ले गए. मेरी पत्नी अपने बच्चे को, कि रात है करने के लिए यह समय था, एमनियोटिक द्रव (यह बच्चे के जीवन में जो गर्भ के अंदर तरल है) शाम के समय से उसके शरीर से बाहर बहने लगा और वह यह एमनियोटिक द्रव है कि पता नहीं था और किया किसी भी एक को सूचित नहीं. यह तरल उसके गर्भ के अंदर बच्चे को जीवित रहने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है .. !!

लगभग आधी रात में, वह तुरंत घबरा गया और मेरे पिता जी को सूचित किया जो उसकी माँ को बताया. वे तो प्राथमिक सहायता किया था, लेकिन डॉक्टरों को जो उसे इलाज के लिए लगभग 7 + घंटे लग गए, यहां तक ​​कि सबसे खराब वहां अस्पताल के लिए शुरू कर दिया और. मैं इस बारे में सुना है और मेरे चचेरे भाई सब कुछ ठीक हो जाएगा कि मुझे सुखदायक थे जब मैं बहुत चिंतित था. मैं हर मुसीबत से मुझे बचाया और अस्पताल में उनकी उपस्थिति के लिए प्रार्थना कर रही थी, जो मेरे यीशु पर मेरी आँखों था.

लगभग शाम के समय अगले दिन में, वरिष्ठ चिकित्सक ने उसे भाग लिया और प्रसव आपरेशन किया था. उनके अनुसार, लगभग सभी एमनियोटिक द्रव बाहर सूखा है और बच्चे अभी भी मेरी पत्नी के पेट में जिंदा है और ठीक था !! कमाल है, यह सब एमनियोटिक द्रव बाहर सूखा जब सब पर रहने के लिए कोई रास्ता नहीं था, भले ही मेरे बेटे को संरक्षित कि यीशु की शानदार शक्ति है!

शाम 6:30 पर, यीशु अब वह सैमसन थिओडोर के रूप में कहा जाता है कि मैं थिओडोर के रूप में नामित जिसे सुंदर बेटे के साथ मुझे आशीर्वाद दिया.

भजन 127: 3 बाइबल कहना है: बच्चों को प्रभु से एक विरासत, वंश उसके पास से एक इनाम हैं

 

द्वितीय बेटा:

 

इस बार मैं मेरे एक बेटी देने के लिए यीशु पूछ रहा था और इसके लिए fervently प्रार्थना कर रही थी. हालांकि, मुझे लगता है हम मनुष्य किसी भी तरह से अपनी इच्छा और योजना में परिवर्तन नहीं कर सकते हैं कि सच्चाई भूल गया. मेरी पत्नी, वह विशेष रूप से भगवान द्वारा कंप्यूटर में तैयार किया गया था, जो एक खूबसूरत बेटे को देखा जिसमें एक सपना था अच्छी तरह से डिजाइन कपड़े पहन रखा था, और किसी को यह यीशु आशीर्वाद के रूप में देने जा रहा है जिसे उसके बेटे है कि उसे बताया.

मैं यह सुनकर मैं लगभग इस समय यीशु निश्चित रूप से मुझे एक बेटी देना होगा कि अपनी पत्नी के साथ झगड़ा किया और वह था कि दृष्टि उसके शरीर से बाहर था. वह बुरी तरह से इतना गिर गया है लेकिन अभी तक वह मेरे साथ झगड़ा में नहीं मिला और यीशु अपनी इच्छा को पूरा करने के लिए प्रार्थना कर रहा था (इस सांसारिक एक से अलग कर रहे हैं कि कैसे धर्मी महिलाओं है !!)

दिन पूरा किया और वह अस्पताल में शामिल हो गए और कुछ ही घंटों के बाद, एक कंपाउंडर मेरे पास चला आया और यह फिर लड़का है कि कहा .. !!

यह सुनकर मैं बहुत रोया और फूट फूट कर दु: ख के साथ भर दिया. मेरे दोस्त बाबर मेरे बगल में बैठ गया और मुझे बहुत सांत्वना दी. वह एक मुसलमान था, यीशु ने मेरे दिल में काफी शांति दे दी जो उसके मुंह में उत्कृष्ट शब्द डाल दिया है. विशेष रूप से मेरी माँ और दोस्त एक साथ यह यह बातें धर्मी के लिए अच्छा में निष्कर्ष है .. पाने के लिए आदमी के जीवन में पूरी हो जो यीशु की इच्छा है कि, ने कहा कि जब !!

अब हम दो बेटों के साथ ही धन्य हैं. मेरे बड़े सैमसन थिओडोर में बेटे और युवा यूसुफ थिओडोर है. उनकी दिव्य दया के माध्यम से और हम सब खड़े मजबूत उस में जो बनाता है उसके खून के अनुसार, हमारे जीवन के सभी पहलुओं में हमें आशीर्वाद दिया है. अब हम अच्छी तरह से इस जीवन, वित्तीय स्थिरता के लिए और विशेष रूप से सर्वशक्तिमान यीशु ‘मेरे घर में उपस्थिति .. साथ साथ आध्यात्मिक पुनरुद्धार रोजमर्रा की जरूरत के साथ सभी के आशीर्वाद के साथ बसे हैं !!

सभी महिमा हमारे जबरदस्त भगवान, यीशु मसीह और हमारे स्वर्गीय पिता परमेश्वर सर्वशक्तिमान करने के लिए चला जाता है. मैं भी मुझे मैं जिस तरह से गिर जाते हैं हर बार प्रोत्साहित करने, उत्कृष्ट मार्गदर्शन और खुलासे प्रदान करके मेरे कठिन समय में नेतृत्व जो मेरे गुरु पवित्र आत्मा के लिए बहुत आभारी हूँ. यह दूसरों, उत्साहजनक आरामदायक और सच्चे जीवन और हमारे भगवान, यीशु मसीह के रास्ते में उन्हें मार्गदर्शन करने के लिए मुझे के माध्यम से बोलता है उसे जो है. यह कई लोगों को आशीर्वाद दिया और चारों ओर अपने मंत्रालय के माध्यम से प्रोत्साहित किया जाता है.

भजन 128: 1-3: धन्य उसे आज्ञाकारिता में चलने के यहोवा, जो डर सभी कर रहे हैं. आप अपने परिश्रम का फल खा जाएगा; आशीर्वाद और समृद्धि तुम्हारा होगा. आपकी पत्नी आपके घर के भीतर एक उपयोगी बेल की तरह होगा; अपने बच्चों को अपनी मेज के चारों ओर जैतून शूट के समान होगा.

 

प्रोफेशनल लाइफ:

 

मैं पहले ही उल्लेख किया है मेरे जीवन एक सड़क की ओर फास्ट फूड सेंटर में एक कार्यकर्ता के रूप में शुरू किया था. मैं यीशु के उपदेश के अनुसार बहुत ईमानदारी से और खुशी से वहां काम कर रहा था. बाद में अपनी स्नातक स्तर के पूरा होने के बाद, यीशु ने मुझे वित्तीय कंपनी के साथ काम करने का मौका दिया. कि कंपनी के स्थानीय शाखा काम में शामिल होने के लिए उनकी मदद की मांग अगर मेरे पिता प्रबंधक से एक से बात की. मैं पहली शाखा मांग अवसर के लिए वहाँ चला गया जब मेरे पिता, एसआर से कहा के रूप में. प्रबंधक मैं उनके साथ काम करने के लिए पर्याप्त योग्य नहीं लगते कह रही है कि किसी भी बुनियादी चेक या साक्षात्कार के बिना मेरे चेहरे पर मुझे अस्वीकार कर दिया. मैं केवल यीशु प्रार्थना करने के बाद वहां से चले गए. उन पर तुरंत तो अयोग्य पाया तो कम से कम उसे अस्वीकार करने के लिए एक बुनियादी जांच करने के लिए कि प्रबंधक को कहा. तब वरिष्ठ प्रबंधक ठीक कहा और मुझे का एक साक्षात्कार लिया और अगले दिन मुझसे मिलने के लिए कहा.

इस बीच मेरे दोस्त से एक सख्त में था यह की जरूरत है, जो नौकरी की तलाश में था और मैं एक ही शाखा के प्रबंधक को देखने के लिए उसे सुझाव दिया. वह चला गया और एक ही प्रबंधक से मुलाकात की और आश्चर्यजनक रूप से अपनी नौकरी कार्यालय सहायता (नौकरी stetting) तुरंत के रूप में पुष्टि की गई. मैं क्योंकि प्रबंधक के लिए उसे भेजने से पहले, मैं एक चमत्कार के लिए उसके लिए प्रार्थना की और यीशु तुरन्त यह किया कि देखकर बहुत आश्चर्य हुआ.

अगले दिन, मैं कार्यालय के पास गया, जब मैं भी बिक्री कार्यकारी के रूप में एक नौकरी की पेशकश की थी. मेरा पहला महीना वेतन 1900 / – था और फिर अगले महीने के लिए, वे 3000 / करने के लिए यह वृद्धि हुई है – (वे !! मुझे योग्य पाए जाने के बाद). मैं 15 महीने के लिए वहाँ काम किया और मेरी प्रबंधकों के लिए पर्याप्त विश्वास प्राप्त की. मेरे कार्यालय में हर कोई बिक्री में मेरे प्रदर्शन पर खुश था. INR – मैं 4500 / के वेतन के साथ sr.sales कार्यकारी के रूप में एक पदोन्नति मिली. यीशु सब मेरे घर का खर्च पूरा करने के लिए प्रचुर मात्रा में पैसे के साथ मुझे आशीर्वाद दिया. मैं अपनी पूरी करने के लिए अपने घर, चर्च समर्थन कर रहे थे और यीशु ने मुझे यह भी है कि थोड़े से पैसे के साथ अच्छी तरह से उन्हें समर्थन करने के लिए विकसित करने के लिए आशीर्वाद दिया.

इस असीम खुशी के साथ मैं मसीह में जीवन के सभी पहलुओं में आनंद ले रहा था के रूप में. लेकिन अचानक, मेरे कार्यालय में, मेरे प्रबंधक मैं एक जगह उम्मीद कर रहा था लेकिन बिना किसी कारण के दूर छोड़ दिया गया था, जिसमें उच्च प्रोफाइल ग्राहकों को लक्षित करने के लिए एक विशेष टीम का गठन किया. मैं यह देख कर हैरान था. मैं मैं भी अपने प्रदर्शन छेड़छाड़ की जो बिक्री में ध्यान केंद्रित नहीं कर सकता है कि इतनी उदास था. मुझे लगता है कि प्रबंधन सुनना पड़ा हर दिन अपने काम से मुझे समाप्त करने के लिए मुझे और योजना के साथ खुश नहीं है. यह अन्य सभी के लिए बहुत छोटी चीजें हो लेकिन मैं हर पैसा मूल्यवान है जो करने के लिए एक बहुत कम परिवार से सिर्फ याद सकता है.

मैं सब कुछ सही सेट करने के लिए हर दिन अपने पर प्रार्थना कर रही थी और छिपा मुझ में कोई गलती है तो भी सही करने के लिए.

एक दिन, मेरे नाम पर रखा तुलसीराम की एक दोस्त और आसपास के होटल में चल रहा है कुछ साक्षात्कार है कि वहाँ कहा. मैं तुरंत एक बहुत छोटे से प्रार्थना के साथ इसके लिए शुरू कर दिया और होटल के पास गया और बाहर खड़ा था. मैं चुपचाप मेरे भीतर प्रार्थना के लिए समय हो सकता है इतना है कि मैं हर किसी को मुझसे पहले जाने के लिए अनुमति थी. तब मैं कमरे में या किसी और सभी रिक्त पदों की जाएगी भरा हुआ अंदर भीड़ के लिए मुझसे पूछ आवाज सुनी और मैं खाली हाथ वापस जाने के लिए हो सकता है. मैं तुरंत अंदर झांकना एक मौका ले लिया और प्रबंधक से पहले खड़ा था. उन्होंने कहा कि वर्तमान कंपनी में मेरे प्रदर्शन के बारे में मुझसे पूछा और मैंने सोचा कि मैं वहाँ शीर्ष कलाकार से एक हूं कि उत्तर दिया. वे मुझे मेरे वर्तमान पैकेज पूछा और मैं ईमानदारी से जवाब यह है कि 4500 / – यह सुनकर वे 6500 से नौकरी की पेशकश कर रहे हैं ने कहा कि / – हे भगवान, यीशु फिर एक चमत्कार किया !!

फिर आनन्द और प्रसन्नता के समय शुरू कर दिया. फिर नई नौकरी, बेहतर पैकेज और आगे नई चुनौतियों और अवसरों .. !!

यहाँ भी यीशु ने मुझे आशीर्वाद शुरू कर दिया और उसकी महिमा के लिए सभी शर्तों में एक शक्तिशाली पोत के रूप में मुझे इस्तेमाल किया. मैं यहाँ शीर्ष कलाकार था और मैं अपने सभी वित्तीय परेशानियों और दायित्वों मंजूरी दे दी थी के रूप में वित्तीय स्वतंत्रता थी. मैं उस समय तक केवल चक्र का उपयोग किया गया था के रूप में यीशु ने एक नई बाइक दे दी है. यह यीशु एक परिवार के रूप में उसके साथ पूजा करने के लिए अपनी पत्नी के रूप में मुझे एक सुंदर, दयालु और बुद्धिमान महिलाओं को दे दिया इस अवधि के दौरान किया गया था. चमत्कार, महिमा महिमा के बाद और आशीर्वाद के बाद चमत्कार आशीर्वाद मेरे जीवन में लुढ़का के बाद. मैं खुशी और उत्साह सारा दिन से भर गया था.

मैं दिन के अपने पहले घंटे में बिक्री करते थे और फिर दूसरों को मेरी गवाही साझा करने के लिए मेरे पादरी या अन्य किसी के साथ जाने के लिए इस्तेमाल किया. मैं सारा दिन यीशु के साथ अपने अनुभवों को साझा करने, हर जगह मैं कार्यालय, दोस्त और मैं प्रार्थना दौरा अन्य स्थानों सहित जाना अपने शब्द साझा करने के लिए इस्तेमाल किया.

मेरा जीवन अनन्त खुशी और खुशी मैं कुछ भी नहीं की कमी थी से भर गया था.

कुछ परेशानियों मेरे पास आया देता है तो लोग मेरा मजाक बनाने के लिए इस्तेमाल किया, खुद सहित, लेकिन यीशु ने मुझे बताया, जॉन 00:27, 28.

इस बीच, कारण बुरी दोस्ती को फिर से, मैं 2005 में सांसारिक तरीके में खो दिया है और यीशु पूरे दिल से पालन करने में विफल रहा. यीशु के साथ चमत्कार और साहचर्य के इन कई देखने के बाद, मैं क्योंकि अज्ञान और वफादार प्रार्थना की कमी के अपने तरीके में मजबूत पर पकड़ करने में विफल रहा. इस समय के दौरान, मैंने अपने जीवन में कई अच्छे आशीर्वाद खो दिया है.

लेकिन हमारे यीशु एक अच्छा भगवान है और वह अपने क्रोध रखती है कभी नहीं.

एक एक बहुत अच्छा दिन है, मैं फिर से अच्छी खबर सुनी .. !!

उस दिन, मैं जो पीटर परेरा नामित भगवान के एक आदमी यीशु का संदेश देने के लिए आया था, जहां हमारे स्थानीय चर्च में से एक में था. वह भगवान के शब्द बोल रहे थे, जबकि वह महिलाओं व्यभिचार में पकड़ा और हमारे प्रिय भगवान, यीशु मसीह के कुछ क्षणों के लिए वहाँ चुप था के दृष्टान्त लिया. उन क्षणों है कि महिलाओं के लिए मुश्किल थे, यीशु वह ठीक हो जाएगा और शांति से उस जगह को छोड़ देंगे कि यकीन था. उन शब्दों ने मुझे छुआ और मैं चर्च में एक बड़ा हे भगवान चिल्लाया कि अनन्त आनन्द के साथ मुझे भर दिया. पूरे चर्च चुपचाप भगवान और हर किसी के शब्द सुन रहा था कि यह इतनी जोर से चिल्ला रहा था, जो मुझे देखने के लिए पर देखने के लिए बदल गया. वे सही … मेरे कठिन समय पता नहीं है?

कि यीशु में मेरा विश्वास डबल उपाय में मुझ में फिर से जगाने और मैं उनकी दया और क्षमा के लिए भीख मांगने शुरू कर दिया, सब है. भगवान मुझे जल्दी ही स्वीकार कर लिया और उसके खून के साथ मेरे पापों को धोया. मैं घर वापस मुस्कुरा रही थी.

मेरे दोस्त, भाई और हर किसी ने मुझसे पूछा: अरे, आप काफी इन दिनों ताजा लग रही हो? Whatzup? … मैं … हे भगवान, उन पर मुस्कान के लिए इस्तेमाल किया और कहा

मैं अपने कंधों से हर क्लच और बंधन हटा बिना किसी देरी के भगवान और यीशु के आदमी के माध्यम से वादा किया था के रूप में हर बंधन से मुझे देने के लिए उत्साह यीशु प्रार्थना शुरू कर दिया.

कुछ महीनों के बाद, मैं यीशु मैं कोई पादरी या उपदेशक कभी मुझे सिखाया जो बहुत कुछ सीखा है जिसमें हैदराबाद में prophetical सम्मेलन कॉल में भाग लेने का मौका मिला.

कि सम्मेलन के अंतिम दिन, यीशु भाई की प्रार्थना के माध्यम से मुझसे बात की. शमूएल Dhinakaran और मेरे बगल में कैरियर और भविष्य बार आने में मेरे लिए भी अपनी योजनाओं के रूप में आईटी क्षेत्र चुनते करने के लिए मुझे एक सपना दे दी है. मैं बेहद खुशी और अनन्त आनन्द उस दिन से भर गया था.

यीशु एक स्पष्ट तस्वीर दे दी है जब मैं अपनी प्रार्थनाओं में उनकी दृष्टि तप और. मैं तुरंत फ़रवरी महीने में अपनी नौकरी इस्तीफा दे दिया और 90 दिनों के आधिकारिक नोटिस की अवधि की सेवा के बाद, मुझे लगता है कि काम छोड़ दिया और बिना किसी देरी के, मैं, बंगलौर के लिए कूद अपने ही भाई राजेश से एक तकनीकी पाठ्यक्रम में सीखा है और 110 दिनों के लिए वहां रुके (दोनों सीखने और काम ट्रेल्स के लिए). मेरे भाई घर में अपने प्रवास के दौरान, मैं अपने यीशु की महिमा का मौका चूक गए और या तो सीखने में और प्रार्थना के समय के सबसे अधिक खर्च कभी नहीं. यीशु वह एक शानदार नौकरी की पेशकश के साथ मुझे आशीर्वाद देगा एक दृष्टि के माध्यम से उस महीने के 2 सप्ताह में बात की थी.

नीतिवचन 22:29: यदि आप अपने काम में निपुण एक आदमी दिखता है? वह राजाओं के आगे खड़े होंगे; वह अस्पष्ट पुरुषों से पहले खड़ा नहीं होगा.

नीतिवचन 2: यहोवा के लिए 6 ज्ञान देता है; उसके मुंह से ज्ञान और समझ आते हैं.

यीशु ने वादा किया था, मैं एक उत्कृष्ट पैकेज के साथ भारत, मुंबई की वित्तीय राजधानी में भारतीय आईटी सेक्टर के शीर्ष बहुराष्ट्रीय कंपनियों में से एक के साथ एक भयानक नौकरी की पेशकश मिली. कुछ महीने बाद, मैं अपने पहले के प्रबंधक से बात करने का मौका था और मैं उसे अपने पैकेज को बताया है, वह चौंक गया था और कहा, ‘तुम मुझे वहाँ के लिए एक और नौकरी की पेशकश है ..?’

बैंगलोर में अपने सहयोगियों और मित्रों में से हर एक ने मुझे इतने कम समय में प्रस्ताव मिलता देख चौंक गया था. हम गंभीरता से एक सही नौकरी पाने के लिए एक साथ साल खर्च कर रहे हैं जो वहाँ कुछ लोग हैं !!

मैं मैं मेरे रविवार सेवा में भाग लेने के लिए किया जाता है और फिर अगले दिन, मेरी नई नौकरी स्थान पर शामिल होने के लिए छोड़ दिया जहां फ्रेज़र टाउन की TPM चर्च में नौकरी के अवसर की अच्छी खबर के साथ मेरे व्यक्तिगत गवाही साझा की है.

मैं इस काम को मुंबई में किया गया था के रूप में यीशु के रूप में लंबे समय तक मेरे साथ किया गया है और मैं अपने जीवन में यीशु की उपस्थिति के साथ मुंबई के सुखद जीवन शैली का आनंद ले रहा था. कुछ साल पहले, आज के बाद, मैं बेहतर स्थिति के साथ ही आईटी क्षेत्र में अपने शहर में हूँ. मेरे जीवनसाथी मेरे घर की देखभाल करने के लिए उसे नौकरी छोड़ दिया है और अपने बच्चों को स्कूल अब जा रहे हैं.

मेरे माता पिता ने यीशु में विश्वास करने के लिए अभी तक कर रहे हैं और धीरे धीरे अपने तरीके से करने के लिए बदल रहे हैं. दोनों मेरे भाई अब अच्छी तरह से यीशु मसीह में लगाए हैं और दो ​​बहनों से शादी कर ली और साथ ही बच्चों के साथ ही धन्य हैं. वे बहुत अच्छी तरह से अपने पेशे में बसे हुए हैं.

मैं आज भी मैं गरीबी, बीमारी, अत्यंत दयनीय जीवन के अपने शुरुआती दिनों को याद है और आज के कद के साथ उन्हें पैमाने पर करने की कोशिश जब भी इस तरह के बड़े बड़े काम मेरे जीवन में कैसे हुआ कि विश्वास नहीं है.

सभी मैं कह सकता है: यीशु मसीह इन अविश्वसनीय चमत्कार किया था, जो भगवान है .. !!

समय और परिस्थिति के द्वारा आवश्यकता के रूप में एक के बाद एक,. यह सबसे अच्छा पुरुषों के साथ बैठते हैं और एक समृद्ध जीवन व्यतीत करने के लिए इस गरीब आदमी लाया जो यीशु मसीह है .. !!

आज, हम अपने मिशन हमारे मापा प्रति शेयर के रूप में हमें के माध्यम से पूरा हो और उन पर चमक के लिए उसके प्रकाश की जरूरत होती है जो दूसरों तक पहुँचने के लिए यीशु मसीह के सुसमाचार पाने के उपदेश के विभिन्न तरीकों से लोगों के साथ काम कर रहे हैं

आज भी यीशु एक ही है और वह पापी जीवन से किसी भी एक को देने और हम उसे करने के लिए हमारे जीवन को आत्मसमर्पण कर सकते हैं, एक शानदार जीवन व्यतीत करने के लिए बहुतायत से उन्हें आशीर्वाद दे सकता है. यह बहुत ही सरलता से .. बस अपने व्यक्तिगत उद्धारकर्ता के रूप में यीशु मसीह स्वीकार करते हैं और अपने भगवान हो और आपके जीवन व्यतीत करने के लिए उसे आमंत्रित किया जाता है.

 

यदि आप ऐसा करने के लिए तैयार हैं .. यहाँ पूरी तरह से अपने जीवन को बदल सकते हैं, जो एक बहुत छोटे से प्रार्थना है.

 

प्रिय यीशु, मैं अब आप ही मार्ग, सत्य और जीवन का मानना ​​है कि. मुझे लगता है मैं एक पापी हूँ और अपने माफी की जरूरत है कि कबूल. कृपया मेरे जीवन में आई और मेरे भगवान हो सकता है और मैं अपने जीवन में पकड़ सब कुछ पर नियंत्रण रखना. अपनी स्वयं की छवि में मुझे बदलने और जीवन के सभी पहलुओं में मुझे आशीर्वाद दे. यीशु के नाम में मैं आमीन, प्रार्थना.
यीशु सर्वशक्तिमान करने के लिए सभी महिमा … आमीन.